21.05.2011 ►Santhara Of Ratani Devi Surana Entered In 25th Day.

Published: 21.05.2011
Updated: 21.07.2015

News In English

Location:

Padihara

Headline:

Santhara Of Ratani Devi Surana Entered In 25th Day.

News:

Sadhvi Jyotiprabha, Sadhvi Dharamprabha, Sadhvi Sanyamlata, Sadhvi Mardavshree and Sadhvi Vineet Prabha are giving Chit Samadhi to her.

News in Hindi:

25 वें दिन भी जारी रहा संथारा

पडि़हारा 21 May-2011 (जैन तेरापंथ समाचार ब्योरो)

रतनीदेवी सुराणा की तपस्या के २५वें दिन शुक्रवार को भी संथारा जारी रहा। तेरापंथ कन्या मंडल की मंजू सुराणा सुराणा ने बताया कि संथारे में रतनीदेवी के दर्शन के लिए छापर, सुजानगढ़, लाडनूं, राजलदेसर, रतनगढ़ के श्रावक-श्राविकाओं को लगातार आना जारी है।साध्वी ज्योतिप्रभा के सानिध्य में साध्वी धर्मप्रभा, साध्वी संयमलता, साध्वी मार्दवश्री व साध्वी विनीत प्रभा प्रत्येक दिन राणी के निवास स्थान पर आकर प्रवचन देकर धार्मिक वातावरण बनाकर तपस्विनी का मनोबल बढ़ा रहे हैं। साध्वी धर्मप्रभा के सानिध्य में तेरापंथ कन्या मंडल की बहिनों ने गीतिकाओं के माध्यम से वातावरण को धार्मिक बना दिया। इस अवसर पर मनोज, दीपक, विकास, विनय, अमित, अभिषेक, मनीष सुराणा, कनक जमड़, संगीता बोथरा, सरिता बैद, सुनयना कोटेचा, शिल्पा छाजेड़, श्वेता भंडारी, शिखा बैद, पूर्णिमा बरडिय़ा, सुरभी सुराणा, मोनिका सुराणा व सोनू सुराणा ने अपनी अभिवंदना जताई। धर्मसभा को संबोधित करते हुए साध्वी मार्दवश्री ने कहा कि भिक्षु शासन के त्याग तपोबल के आधार पर तेरापंथ धर्मसंघ नई ऊंचाईयों की ओर जा रहा है। राणी द्वारा तपस्या करके संथारा लेना अपने आप में एक नया कीर्तिमान है। साध्वी धर्मप्रभा ने कहा राणी दृढ़ श्राविका है, इनकी जागरूकता, संघ के प्रति समर्पण, संघ पति के प्रति निष्ठा समाज के लिए अनुकरणीय है।

Sources
Jain Terapnth News

News in English: Sushil Bafana

Share this page on:
Page glossary
Some texts contain  footnotes  and  glossary  entries. To distinguish between them, the links have different colors.
  1. Chit
  2. Jain Terapnth News
  3. Sadhvi
  4. Sadhvi Jyotiprabha
  5. Sadhvi Mardavshree
  6. Sadhvi Sanyamlata
  7. Sadhvi Vineet Prabha
  8. Samadhi
  9. Santhara
  10. Sushil Bafana
  11. दर्शन
Page statistics
This page has been viewed 1394 times.
© 1997-2020 HereNow4U, Version 4
Home
About
Contact us
Disclaimer
Social Networking

HN4U Deutsche Version
Today's Counter: