21.05.2011 ►One Evening In Memory Of Acharya Tulsi

Posted: 21.05.2011
Updated on: 02.07.2015

News In English

Location:

Jasol

Headline:

One Evening In Memory Of Acharya Tulsi

News:

In presence of Sadhvi Ujjwalrekha and Sadhvi Labdhishree devotional song evening was organised. Sadhvi Hemyasha and Sadhvi Kevalyasha presented melodious song.

News in Hindi:

एक शाम आचार्य तुलसी के नाम भजन संध्या, देर रात तक भक्तिरस में झूमे श्रोता

साध्वी वृंदो ने बहाई भक्ति सरिता

एक शाम आचार्य तुलसी के नाम भजन संध्या, देर रात तक भक्तिरस में झूमे श्रोता

जसोल. कार्यक्रम में उपस्थित श्रावक (इनसेट) भजन प्रस्तुत करतीं साध्वी।

जसोल  21 May-2011 (जैन तेरापंथ समाचार ब्योरो)

तेरापंथ धर्म के 11वें आचार्य महाश्रमण की शिष्या साध्वी उज्ज्वलरेखा व साध्वी लब्धिश्री आदि ठाणा 11 के सानिध्य में गुरुवार रात स्थानीय लिंक रोड स्थित भंसाली कंपाउंड में एक शाम आचार्य तुलसी के नाम भजन संध्या का आयोजन किया गया।भजन संध्या में साध्वियों व श्रावक-श्राविकाओं की ओर से भजनों की प्रस्तुतियां दी गई, जिन्हें सुनकर श्रोता देर रात तक झूमते रहे।

 इस मौके पर साध्वी हेमयशा ने महाप्राण गुरुदेव, साध्वी अमृतप्रभा ने तुलसी-तुलसी जपो नाम हिवड़े रो हार, साध्वी केवलयशा ने जन्म-जन्म से हम तो तुलसी के दास है, दिनेश डोसी ने मां वंदना रे कौरव सु जायो घर में नेन्हो टाबरियो तथा जब तक सूरज चांद रहेगा अमर है तुलसी नाम रहेगा, कमेलश कंकु चौपड़ा ने पास भेजो नी भिकणजी म्हारा गुरुवर ने तथा गुरुजी थांरो रूप दिखाजो जी, सुरेश डोसी ने पायो एक गुरु रो शासन तथा तुझको पुकारूं गणराज थाने निहारू बार-बार, मूलचंद सालेचा ने आपरे बागां री के केणी रे बात, संतोष भंसाली ने तुलसी हिवड़े री कोर सौ-सौ वंदना तथा तुलसी चरणा में मैं तो मौज मनावा हां, तेरापंथ सभा अध्यक्ष बाबूलाल लूंकड़ ने गुरुवर तुलसी की याद आती है तथा साध्वी उज्ज्वलरेखा ने गुरुदेवजी हो नव गणाधिराज आदि भजनों की प्रस्तुतियां दी।कार्यक्रम में पूर्व सरपंच भंवर भंसाली, जसराज ढेलडिय़ा, शांतिलाल भंसाली, डूंगरचंद वडेरा, तेयुप के पूर्व अध्यक्ष कांतिलाल जैन, तेयुप अध्यक्ष महेंद्र आर तातेड़, मंत्री जितेंद्र जे सालेचा, उपाध्यक्ष सतीश नाहटा, ओम सुराणा, शांतिलाल बोकडिय़ा, प्रवीण भंसाली, विजय भंसाली, राकेश गोगड़ व मुदित डोसी सहित सैकड़ों ग्रामीण उपस्थित थे

Share this page on: