19.03.2016 ►Acharya Shri VidyaSagar Ji Maharaj ke bhakt ►News

Posted: 19.03.2016
Updated on: 05.01.2017

Update

💦ऐसी होली खेले 💦

🚩होली खेले मुनिराज अकेले वन मे।

🚩काहे का रगं काहे की पिचकारी।

🚩काहे का गुलाल उडावें वन मे।

🚩होली खेले मुनिराज.

🚩समता रंग क्षमा पिचकारी।

🚩ज्ञान गुलाल उडावें वन मे।

🚩ऐसी होली जो खेले उसके पाप कटे क्षणमे

❖ चारित्र चक्रवर्ती आचार्य श्री शांतिसागर महाराज का जीवन चरित्र तथा संस्मरण - ये नहीं पढ़ा तो क्या पढ़ा!! ❖

एक बार द्रोणगिरी में आहार के लिए देर से उतरे तो लोगो ने पूछा "महाराज जी क्या आज आपका ध्यान ज्यादा लग गया था", तो महाराज जी बोले "नहीं, एक प्राणी मेरे पास अगया था", तो बोले कौन सा प्राणी तो महाराज जी बोले "हा एक शेर आगया था, ", आचार्य शांतिसागर जी महाराज की ऊँचाई 6 फुट 2 इंच थी, दिल्ली में एक घटना हुई थी, महाराज जी सुबह जंगल में जाते थे, तो फिर दस लोग उनके साथ चलते थे, एक दिन पंडित जगनमोहन लाल शास्त्री वह पहुच गए, और उन्होंने कुछ ऐसी बात देख ली, तो जाकर महाराज जी से शिकायत करदी, महाराज जी ये लोग आपके साथ भक्ति से नहीं चलते, इसके पीछे बहुत बड़ा रहस्य है, तो महाराज जी ने पूछा "क्या बात है क्यों चलते है" तो पंडित जी बोलते है की ये लोग आपको छुपा कर चलते है, तो महाराज जी बोले "मेरे को छुपा कर चलते है क्यों" तो पंडित जी बोले यहाँ पर अंग्रेजी ब्रिटिश शासन है तो यहाँ पर कोई भी नग्न अवस्था में निकल नहीं सकता, इसलिए ये लोग आपको छुपा कर चलते है, तो महाराज जी बोले "जब तीर्थंकरो के काल में दिगम्बर साधुओ का विचरण होता था तो ये अंग्रेजो के काल में क्यों नहीं हो सकता, कानून बदला जासकता है, धर्म में वो प्रभाव है" एक बात मुनि सुधासागर जी महाराज ने चारित्र चक्रवर्ती आचार्य शान्तिसागर जी के स्मृति दिवस पर कहा था "ये गुप्त स्वतंत्रता सेनानी था हमारा शान्तिसागर गुरु"

तो फिर जब महाराज जी को मालूम पड़ा की ये मेरी नग्नता को छुपाने के लिए मुझे घेर कर चलते है, तो फिर इन्होने अगले दिन कड़क आदेश दिया की अगले दिन मेरे साथ सिर्फ एक व्यक्ति चलेगा कमण्डलु लेकर, अब गुरु का आदेश था तो लोग कुछ भी नहीं कर सके और चुप रह गए, तो जब महाराज जी अगले दिन निकले एक व्यक्ति से साथ तो जब महाराज जी चोराहे पर पहुचे तो पुलिस अधिकारी के रोका, तो उन्होंने बताया की मैं दिगम्बर जैन साधू हूँ, लेकिन उस अधिकारी ने बोला नहीं जा सकते, तो महाराज जी ने पूछा क्या मैं वापस जा सकता हूँ तो उसने बोला नहीं जा सकते तो फिर महाराज जी ने बोला फिर मैं ध्यान में बैठता हूँ, तो महाराज जी वही चोराहे पर ध्यान में बैठ गए तो वह ट्राफिक जाम होगया, तो ये बात एकदम से बड़े बड़े पुलिस अधिकारी और सरकार तक पहुच गई तो फिर सरकार ने एक नया कानून पास किया, "दिगम्बर साधू को कोई रोकेगा नहीं, इस तरह भारत के एक एक प्रान्त में ये कानून पास होगया की दिगम्बर साधू को कोई रोक नहीं सकता!

* ये जीवन चरित्र तथा संस्मरण क्षुल्लक ध्यानसागर जी महाराज (आचार्य विद्यासागर जी महाराज से दीक्षित शिष्य) के प्रवचनों के आधार पर लिखा गया है! टाइप करने में मुझसे कही कोई गलती हो गई हो उसके लिए क्षमा प्रार्थी हूँ! –Nipun Jain

Join us @ www.facebook.com/VidyasagarGmuniraaj | www.facebook.com/JainismPhilosophy

♫ www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse, thankYou:)

Update

Animated Bhaktamara Stotra Serial for kids and parents;) soon @ Paras Channel.. first time ever

News in Hindi

Wao animation serial of Jainism -the Philosophy -bhaktamara stotra based

Bhaktamara Stotra Animated @ Paras Channel soon

आचार्य श्री 108 ज्ञानसागर जी महाराज ससंघ का आज सुबह 8:30 AM बजे बड़ा मंदिर गांधी रोड झाँसी में भव्य मंगल प्रवेश होगा आज का आहार चर्या बड़ा मंदिर गांधी रोड झाँसी में होगा।

आचार्य श्री 108 ज्ञानसागर जी महाराज ससंघ का मंगल विहार सिद्धक्षेत्र सोनागिर जी के तरफ चल रहा है।

आज 24 घंटे का नियम एक रोटी गाय के लिए निकालना है। जय जिनेन्द्र🙏🙏🙏

batao to maane..

Bankok Jain mandir..:)

Share this page on: