Chobisi ►03 ►Stavan for Bhagwan Sambhavanatha

Published: 18.03.2016

Chobisi is a set of 24 devotional songs dedicated to the 24 Jain Tirthankaras.


Composed by:

Dedicated to:

Acharya Jeetmal

Language: Rajasthani:

3~तीर्थंकर संभव प्रभु

संभव साहिब समरियै।

संभव साहिब समरियै,ध्यायो है जिन निर्मल ध्यान कै।
एक पुद्गल दृष्टि थाप नै, कीधो है मन मेर समान कै ।।१।।

तन-चंचलता मेट नै, हुआ है जग थी उदासीन कै ।
धर्म शुकल थिर -चित्त धरै,उपशम-रस मेँ होय रह्या लीन कै।।२।।

सुख इन्द्रादिक  नां सहु,जाण्या है प्रभु अनित्य असार कै।
भोग भयंकर कटुक फल,देख्या है दुर्गति दातार कै।।3।।

सुधा संवेग-रसे भर्या,पेख्या है पुद्गल मोह पास कै।
अरुचि अनादर आण नै,आतम ध्यानें करता विलास  कै ।।४।।

संग छांड मन वश करी, इन्द्रिय-दमन  करी दुर्दन्त कै।
विविध तपे करी स्वामजी,घाति करम नौ कीधो अन्त कै  ।।५।।

हूँ तुझ शरणे आवियो, कर्म- विदारण तुं प्रभु! वीर कै।
तैं तन मन वच बस किया,दुः कर करणि करण महाधिर कै ।।६।।

संवत उगणीसै भाद्रवै,सुदी इग्यारस आण विनोद कै ।
संभव साहिब समरिया,पाम्यो है  मन अधिक प्रमोद कै।।७।।

 

Bhagwan Sambhavanatha

Symbol - Horse

       

03

Stavan for Bhagwan Sambhavanatha

 

Acharya Tulsi

9:02
Babita Gunecha 4:16

Language: Hindi
Author: Acharya Tulsi

3~ तीर्थंकर संभव प्रभु
अर्हत् संभव का सुमिरन करें।

1.प्रभो! तुमने निर्मल ध्यान किया,किसी एक वस्तु पर दृष्टि को टिका मन को मेरु के समान अडोल बना लिया।

2.प्रभो! तुम शारीरिक चपलता को छोड़कर जगत् से उदासीन हो गये।स्थिर चित्त से धर्म और शुक्ल ध्यान को धारण कर तुम उपशम रस में लीन बन गये।

3.प्रभो! तुमने इंद्र आदि के सुखों को अनित्य और असार समझा ।तुमने देखा -ये भोग भयंकर, परिणाम कटु और दुर्गति- दायक है।

4.प्रभो! संवेग रूपी सुधारस से आपूरित होकर तुमने देखा -यह पोद्गलिक सुख मोह -पाश है।उसके प्रति अरुचि और अनादार के भाव लाकर तुम आत्मध्यान में रम गये।

5.प्रभो! तुमने संग आसक्ति छोड़ मन को वश में किया,दुर्दम इन्द्रियों का दमन किया,नाना प्रकार की तपस्या कर घाती कर्मो को क्षीण कर दिया।

6.प्रभो! में तुम्हारी शरण में आ चूका हूँ। तुम कर्मो का विदारण करने में वीर हो। तुमने शरीर,मन और वचन को वश में कर लिया।तुम दुष्कर क्रिया करने में महान् धीर हो।

7.संभव प्रभो! मैने उल्लसित होकर तुम्हारा सुमिरन किया।इससे मेरा मन अधिक प्रमुदित हुआ है।

{रचनाकाल-वि.स. १९००,भाद्रव शुक्ला एकादशी।}

English Translation:

3rd Tirthankara Sambhavnatha Bhagwan

Let us recite Arhat Sambhavnatha.

Lord! You did vestal meditation. you firm your psyche like the Meru by concentrating vision at one point only.

Lord! You became impassive about cosmos by barring physical versatility. You possessed Dharma Dhyana and Shukla Dhyana with stable mind and engrossed yourself in the delight of solace.

Lord! You perceived that the luxury of Indra is momentary and futile. You felt this indulgence terrific, which gives a bitter result and catastrophe.

Lord! Filled with the delight of impetus, you saw this materialistic pleasure as a snare of illusion. So, by bringing disinclination and dishonor emotions towards this you engrossed in self meditation.

Lord! You rid off indulgence by overwhelming the psyche, vanquished refractory senses and diminished all Ghati karma by practicing many types of Tapasya.

Lord! I am now in your protection. You are courageous to do avulsion of Karma. You have overwhelmed body, mind and spoken communication. You are mighty resolute to do adventures.

Lord Sambhav! I have exultantly recited you, my heart got pleased by this act.
Time of Composing - V.S. 1900, 11th day of Shukla Bhadrava.
Sources
Project: Sushil Bafana
Text contributions:
Rajasthani & Hindi: Neeti Golchha
English: Kavita Bhansali
Categories

Click on categories below to activate or deactivate navigation filter.

  • Jaina Sanghas
    • Shvetambar
      • Terapanth
        • Share this page on:
          Page glossary
          Some texts contain  footnotes  and  glossary  entries. To distinguish between them, the links have different colors.
          1. Acharya
          2. Acharya Jeetmal
          3. Acharya Tulsi
          4. Arhat
          5. Babita Gunecha
          6. Body
          7. Chobisi
          8. Dharma
          9. Dharma Dhyana
          10. Dhyana
          11. Ghati
          12. Ghati karma
          13. Indra
          14. Karma
          15. Kavita Bhansali
          16. Meditation
          17. Meru
          18. Neeti Golchha
          19. Rajasthani
          20. Shukla
          21. Shukla Dhyana
          22. Stavan
          23. Sushil Bafana
          24. Tapasya
          25. Tirthankara
          26. Tirthankaras
          27. Tulsi
          28. तीर्थंकर
          29. भाव
          Page statistics
          This page has been viewed 1427 times.
          © 1997-2021 HereNow4U, Version 4.5
          Home
          About
          Contact us
          Disclaimer
          Social Networking

          HN4U Deutsche Version
          Today's Counter: