business sales plan template introduction paragraphs for research papers college essay horseback riding global scholar homework help masters of religion thesis apa review of literature business plan nursery networked digital library of theses and dissertations sociology research proposal topics writing literature review services

sex movies

سكس عربي

arabic sex movies

سكس

maturetube

سكس xxx

03.02.2011 ►Rajaldesar ►Jain Terapanth News

Published: 03.02.2011
Updated: 21.07.2015

News in Hindi

बुधवार को अध्यात्म समवसरण

03 Feb, 2011

राजलदेसर। जागरूक व अप्रमत मनुष्य जिसमें वैर भाव तथा प्रतिशोध की भावना नहीं होती वह वीर होता है। जो सोया हुआ अथवा मूर्छा में रहता है वह वीर कहलाने योग्य नहीं है।आचार्य महाश्रमण ने बुधवार को अध्यात्म समवसरण में उपस्थित श्रावक-श्राविकाओं को सम्बोधित करते हुए उक्त विचार व्यक्त किए। 

उन्होंने कहा कि क्षमा वीरों का आभूषण है। ज्ञानी लोग सदा जागरूक तथा अज्ञानी सोए हुए रहते हैं। श्रीमद्भागवत गीता का प्रसंग श्रवण करवाते हुए आचार्य ने कहा कि जब सब प्राणी सोते हैं उस समय अध्यात्म के जागरण में संयमी जागता है। उन्होंने कहा कि साधक को मूर्छा-मोह से मुक्त रहना चाहिए। राग-द्वैष व इष्र्या की भावना नहीं रखनी चाहिए। साधु-साघ्वियों में अर्हन्ता, बौधिक कल्पना शक्ति का विकास होना चाहिए। इससे पहले तीन दिन से चल रहे आचार्य महाप्रज्ञ को नमन हमारा कार्यक्रम के अन्तर्गत 121 साधु-साघ्वियों ने स्वरचित कविताओं की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम का संचालन मुनि मोहजीत कुमार ने किया । 

 Jain Terapanth News

Sources

Salil Lodha

Location: Rajaldesar
Categories

Click on categories below to activate or deactivate navigation filter.

  • Jaina Sanghas
    • Shvetambar
      • Terapanth
        • Publications
          • Jain Terapanth News [JTN]
            • Share this page on:
              Page glossary
              Some texts contain  footnotes  and  glossary  entries. To distinguish between them, the links have different colors.
              1. Jain Terapanth News
              2. Rajaldesar
              3. Salil Lodha
              4. Terapanth
              5. आचार्य
              6. आचार्य महाप्रज्ञ
              7. भाव
              8. मुनि मोहजीत कुमार
              Page statistics
              This page has been viewed 2050 times.
              © 1997-2022 HereNow4U, Version 4.5
              Home
              About
              Contact us
              Disclaimer
              Social Networking

              HN4U Deutsche Version
              Today's Counter: