27.09.2018 ►STGJG Udaipur ►News

Published: 27.09.2018
Updated: 28.09.2018

Update

भावभरा आमंत्रण
#गुरु #पुष्कर_जन्मोत्सव_समारोह
#नाशिक_रोड - 14/10/2018

News in Hindi

जैन धर्म की गणित एक बार जरूर पढ़िए ।

1- आत्मा 1 होती है

2 - जीव -2

3 - योग

4 - गतियां

5 - पाप

6 - द्रव्य

7 - तत्त्व

8 - कर्म

9 - पदार्थ

10 - धर्म

11 - प्रतिमा

12 - भावना

13 - चारित्र

14 - गुणस्थान

15 - प्रमाद

16 - कषाय

17 - मरण

18 - दोष

19 - जीव समास

20 - प्ररूपना

21 - ओदायिकभाव

22 - परिषह

23 - वर्गना

24 - तीर्थकर

25 - क्रियाए

26 - प्रथव्या

27 - पंचेंद्रियोंके विषय

28 - साधू के मूलगुण

29 - मनुष्योंकी संख्या

29 अंक प्रमाण

30 - णमोकारमंत्र में 30 व्यंजन होते है

31 - प्रथम पटल में 31 पटल है

32 - अन्तराय

33 - सर्वार्थसिद्धि में 33सागर आयु

34 - अतिशय

35 - णमोकारमंत्र में 35 अक्षर होते है

36- आचार्यों के मूलगुण

37 - पाँचवे गुणस्थान में आश्रवद्वार 37 होते है

38 - भगवान् पार्श्वनाथ के समोवशरं में 38 हजार आर्यिकाए थी

39 - तत्वार्थसूत्र के तीसरे अध्याय के सूत्र

40 - भवनवासी

41 - चार आराधनाओ के 41 प्रभेद

42 - तत्वार्थसूत्र के चौथे अध्याय के सूत्र

43 - तीसरे गुणस्थान में आस्रवद्वार 43

44 - कल्याणमंदिर के श्लोक

45 - मनुष्य लोक का विस्तार 45 लाख योजन

46 - अरिहंतों के मुलगुण

47 - घाति या कर्म

48 - भक्तामर में 48 श्लोक है

49 - नरक पटल

50 - सम्यक्त्व के 50 मल

51 - इष्टोपदेश के श्लोक 51 होते हे

52 - नंदीश्वरद्वीप के चैताल्य 52 होते हे

53 - जीव के भाव 53 होते हे

54 - बडे समाधिमरण के छंद 54 होते है

55 - सोलहवे स्वर्ग की देवियो की आयु 55 पल्य होती है

56 - जम्बूद्वीप में नक्षत्र 56 होते है

57 - आस्रव के कुल भेद 57 होते है

58 - द्रव्यसंग्रह मे गाथा 58 होती है

59 - सातवे गुणस्थान मे बंधने वाले कर्म 59 होते है

60 - श्रावकव्रतो के अतिचार 60 होते है

61 - आचार्य, उपाध्याय के कुल मूलगुण 61 होते है

62 - पुद्गल विपाकी कर्म 62 होते है

63 - शलाका पुरुष 63 होते है

64 - ऋद्धियाँ 64 होती है

65 - दारहवे गुणस्थान मे अनुदय कर्म 65 होते है

66 - भगवान महावीर की वाणी नहि खिरने के दिन 66 थे

67 - पाँचवे गुणस्थान मे बंधने वाले कर्म 67 होते है

68 - पुण्यकर्म 68 होते है

69 - सम्मूर्च्छन तिर्यंचों के 69 भेद होते है

70 - ढाई द्वीप की मुख्य नदियाँ 70 होती है

71 - अरिहंत, उपाध्याय परमेष्ठी के मूलगुण 71 होते है

72 - भगवान महावीर की आयु 72 वर्ष थी

73 - कषायमार्गणा मे सातवे गुणस्थान मे उदयकर्म 73 होते है

74 - तत्वसार ग्रन्थ की गाथा 74 होती है

75 - गुण संक्रमण के कर्म 75 होते है

76 - द्वीपकुमार के भवन 76 होते है

77 - भगवान श्रेयांसनाथ के गणधर 77 थे

78 - जीव विपाकी कर्म 78 होते है

79 - अरिहंत, उपाध्याय, सिद्धपरमेष्ठी के कुल मूलगुण 79 होते है

80 - पंचमेरू के चैत्यालय 80 होते है

81 - भगवान शान्तिनाथ जी, कुन्थुनाथ जी और पार्श्वनाथ जी के गणधरो की संख्या मिलाकर 81 हो जाति है

82 - अरिहंत और आचार्य परमेष्ठी के कुल मूलगुण 82 होते है

83 - तत्वार्थसूत्र के आठवे, नवें और दसवें अध्याय के सूत्रो की संख्या मिलाकर 83 हो जाति है

84 - णमोकारमन्त्र से 84 लाख मन्त्र निकलते है

85 - चौदह गुणस्थान मे सत्वकर्म 85 होते है

86 - भगवान सुपार्श्वनाथ जी के समवशरण मे वादी मुनीराज 86 सो थे

87 - भगवान शीतलनाथ जी के गणधर 87 थे

88 - भगवान पुष्पदन्त जी के गणधर 88 थे

89 - आचार्य, उपाध्याय और साधु परमेष्ठी के मूलगुण 89 होते है

90 - जम्बूद्वीप की कुल नदियाँ 90 है

91 - अधोग्रैवेयक के चैताल्य 91 है

92 - सामान्य मनुष्य के चौथे गुणस्थान मे कर्म उदय 92 होते है

93 - नामकर्म के भेद 93 होते है

94 - भगवान चन्द्रप्रभ जी के एक कम 94 गणधर थे

95 - भगवान सुपार्श्वनाथ जी के 95 गणधर थे

96 - चक्रवर्ती की 96 हजार रानीयाँ होती है

97 - कुभोगभुमियाँ एक कम 97 होती है

98 - जीव समास के 98 भेद है

99 - सुमेरू पर्वत पृथ्वी से 99 हजार योजन ऊँचा-

100-इंद्रो की कुल संख्या 100 होती है।

ये है जैन धर्म की गिनती।।।।

*आगम विरुद्ध लिखा हो तो मिच्छामि दुक्कड़म*

Sources

PushkarWani
Shri Tarak Guru Jain Granthalaya Udaipur

Share this page on:
Page glossary
Some texts contain  footnotes  and  glossary  entries. To distinguish between them, the links have different colors.
  1. Guru
  2. Shri Tarak Guru Jain Granthalaya Udaipur
  3. Udaipur
  4. आचार्य
  5. द्रव्यसंग्रह
  6. भाव
  7. महावीर
  8. सम्यक्त्व
Page statistics
This page has been viewed 200 times.
© 1997-2020 HereNow4U, Version 4.03
Home
About
Contact us
Disclaimer
Social Networking

HN4U Deutsche Version
Today's Counter: