02.07.2014 ►Hubli ►Sadhvi Kavyalata entered for Chaturmas

Published: 08.07.2014
Updated: 21.07.2015

ShortNews in English

Hubli, 2.7.2014

Sadhvi Kavyalata entered for chaturmas at Hubli. She walked about 1300 Kilometer. She told she is feeling happy to fullfill instruction of Acharya Mahashraman. She inspired people to use time of Chaturmas for spiritual upliftment.

Group of Sadhvi Kavyalata at Hubli

  1. Sadhvi Jyoti Yasha
  2. Sadhvi Surabhi Prabha
  3. Sadhvi Vaibhav Yasha

Photos:

14600601461

2014.07.02 Hubli - Sadhvi Kavyalata entered for Chaturmas 01

14417260138

2014.07.02 Hubli - Sadhvi Kavyalata entered for Chaturmas 02

14603865195

2014.07.02 Hubli - Sadhvi Kavyalata entered for Chaturmas 03

News in Hindi:

हुबली। 2 जुलाई। जैतेन्युज। शांतिदूत आचार्य श्री महाश्रमणजी की आज्ञा शिरोधार्य कर साध्वी काव्य्लताजी ने अपनी सहयोगिनी साध्वियों के साथ हुबली तेरापंथ भवन में प्रवेश किया। सूरत चातुर्मास की परिसम्पनता के बाद लगभग 1300 किलोमीटर की पदयात्रा कर गुजरात, महाराष्ट्र एवं कर्नाटक के अनेको क्षेत्रों का स्पर्श करते हुए,संघ प्रभावना करते हुए हुबली में पदार्पण हुआ। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम का शुभारम्भ साध्वी श्री जी द्वारा नमस्कार महामंत्रोच्चार हुआ। तत्पश्चात साध्वी ज्योतियशाजी ने मातृह्र्दया साध्वी प्रमुखा कनक प्रभा जी के मंगल संदेश का वचन करते हुए कृतज्ञता ज्ञापित की।

साध्वी श्री ने फ़रमाया कि- प्रसन्नता है कि हम परम पूज्य गुरुदेव की आज्ञा निर्देशानुसार प्रलम्ब विहार कर सकुशल हुबली पहुचे गये। तेरापंथ धर्मसंघ एक आचार्य की आज्ञा में चलने वाला विलक्षण धर्मसंघ है। वर्तमान में परम पूज्य आचार्य श्री महाश्रमण जी के कुशल नेतृत्व में धर्मसंघ शतशाखी विकास कर रहा है। साधू साध्वियों के लिये जहाँ विहार चर्या प्रशस्त मानी गयी है। वहीं चातुर्मास का काल एक स्थान पर रह कर अध्यात्म का ‌निर्झर बहाने के लिये सर्वोत्क्रु‌‍ष्ट माना गया है। हमारा यह चातुर्मास भी तेरापंथ धर्म संघ की प्रभावना, ज्ञान,दर्शन,चरित्र की त्रिवेणी बहाने वाला एवं अणुव्रत,प्रेक्षाध्यान,जीवन विज्ञान जन व्यापी बनाने वाला बने।
चातुर्मास प्रवेश के मंगल अवसर पर साध्वी श्री ज्योतियशाजी,साध्वीं श्री सुरभिप्रभाजी,एवं साध्वीश्री वैभवयशा जी ने चातुर्मास की तस्वीर को विविधता से प्रस्तुत कर उपस्थित सभा को भाव विभोर कर दिया।

साध्वींवृंद का हुबली तेरापंथ भवन में प्रवेश सिंधी काम्प्लेक्स से प्रारंभ हुई अनुशासन रेली के साथ हुआ। आज के अवसर पर गदग, कोपल, सोजती, सिंधनूर, होसपेट, गुटकुल, इलकल, गगावली, हावेरी,आदि श्रेत्रों के भाई बहनों ने दर्शन किये। कन्या मंडल,महिला मंडल,ने समूह गीतिका के द्वारा साध्वी श्री का स्वागत किया। सभाध्यक्ष पारस बाफना ने आगन्तुको का स्वागत करते हुए चातुर्मास में लाभ लेने का आव्हान किया। सभा के मंत्री पारस भंसाली, अ.भा.ते.यु.प. के महामंत्री हनुमान लुंकड़, उत्तर कर्नाटक के अध्यक्ष अमृतलाल कोठारी, मंत्री महेंद्र चोपड़ा, महिला मंडल की अध्यक्षा तारा बोहरा, नवरत्न जी बच्छावत,महावीर श्रीश्रीमाल, संतोष बागरेचा, अणुव्रत महासमिति सदस्य सुरेश कोठारी, उपासिका राजेश्वरीजी आदि ने वक्तव्य के माध्यम से साध्वीवृन्द का स्वागत किया।

अ.भा.ते.यु.प. के महामंत्री हनुमान लुंकड़ ने साध्वीश्रीजी का स्वागत किया एवं मेगाब्लड डोनेशन ड्राइव 2 के बारे में जानकारी देते हुए उसे सफल करने का आव्हान किया ।कार्यक्रम का कुशल सयोजन ते.यु.प. हुबली के अध्यक्ष महावीर कोठारी ने किया।

आज के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में श्रीमती कमला (हुबली महानगर सभा सदस्य) एवं श्री आन्नदिया सज्जान्वर (भूतपूर्व उपाध्यक्ष चेंबर ऑफ़ कॉमर्स) उपस्थित थे।

आगन्तुक अतिथियों का साहित्य द्वारा सम्मान किया गया। इस अवसर पर राजस्थान पत्रिका के वरिष्ठ पत्रकार जाकिर हुसेन भी उपस्थित थे। ते.यु.प. मंत्री मुकेश भटेवरा ने पूज्य गुरुदेव के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करते हुए साध्वी श्री जी के प्रति आभार ज्ञापन किया व आगन्तुको का भी आभार ज्ञापित किया ।

जे.त.स ब्योरों

Sources

jainterapanthnews.in

Shortnews in English:
Sushil Bafana
Share this page on:
Page glossary
Some texts contain  footnotes  and  glossary  entries. To distinguish between them, the links have different colors.
  1. Acharya
  2. Acharya Mahashraman
  3. Chaturmas
  4. Hubli
  5. Mahashraman
  6. Sadhvi
  7. Sadhvi Jyoti Yasha
  8. Sadhvi Surabhi Prabha
  9. Sadhvi Vaibhav Yasha
  10. Sushil Bafana
  11. आचार्य
  12. गुजरात
  13. ज्ञान
  14. दर्शन
  15. भाव
  16. महाराष्ट्र
  17. महावीर
  18. राजस्थान
  19. साध्वी प्रमुखा कनक प्रभा
Page statistics
This page has been viewed 708 times.
© 1997-2020 HereNow4U, Version 4
Home
About
Contact us
Disclaimer
Social Networking

HN4U Deutsche Version
Today's Counter: