09.07.2011 ►Pali ►Sadhvi Bhikha and Sadhvi Chandrakala Entered For Pali Chaturmas

Published: 09.07.2011
Updated: 02.07.2015

News in English:

Location:

Pali

Headline:

Sadhvi Bhikha and Sadhvi Chandrakala Entered For Pali Chaturmas

News:

Sadhvi Bhikha and Sadhvi Chnadrakala give pravchan. Sadhvi Punyaprabha and Sadhvi Nirmalprabha also spoke.

News in Hindi:

पाली चातुर्मास के लिए साध्वियों का प्रवेश

पाली 07 Jul-2011(जैन तेरापंथ न्यूज ब्योरो द्वारा प्रस्तुती)

 तेरापंथ भवन में चातुर्मास के लिए बुधवार को साध्वी भीकाजी व चंद्रकला का मंगल प्रवेश हुआ। इस दौरान विभिन्न जैन मंडलों की ओर से उनके स्वागत में गीत प्रस्तुत किए। साध्वी सुबह शहर के विभिन्न मार्गों से होते हुए शोभायात्रा के साथ में तेरापंथ भवन पहुंचीं। यहां पर धर्मसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि व्यक्ति चातुर्मास के दौरान स्वयं के बारे में चिंतन करना चाहिए। इस समय ज्ञान दर्शन, चरित्र एवं तप की अभिवृद्धि हो ऐसे उपक्रम चलाने चाहिए। इस अवसर पर साध्वी चंद्रकला, पुण्य प्रभा, निर्मल प्रभा ने भी संबोधित किया। इस दौरान उपस्थित जनों से नशा मुक्ति संकल्प पत्र भी भरवाए गए। कार्यक्रम का संचालन डूंगरचंद चौपड़ा ने

अच्छे कर्म से मिलता है अच्छा फल: साध्वी भीखाजी

पाली 8 Jul-2011(जैन तेरापंथ न्यूज ब्योरो द्वारा प्रस्तुती)

 मंडिया रोड स्थित तेरापंथ भवन में प्रवचन देते हुए साध्वी भीखाजी ने कहा कि जो व्यक्ति अच्छे कर्म करता है, वह हमेशा अच्छा फल प्राप्त करता है। प्रवचन के दौरान आगम वाणी, सुचिण्ण फला, दुचिण्णा फला का विवेचन करते हुए उन्होंने कहा कि व्यक्ति को हमेशा अच्छे कर्म करने चाहिए। उन्होंने कहा कि एक छत के नीचे रहने वालों का यदि आपसी तालमेल अच्छा है तो हर सुबह खुशियों का नजारा लेकर उपस्थित होती है। इस दौरान साध्वी चंद्रकला ने भी प्रवचन दिए। साध्वी निर्मल प्रभा ने एकांत सुख को पाने के गुर बताया।

Sources
Jain Terapnth News

News in English: Sushil Bafana

Share this page on:
Page glossary
Some texts contain  footnotes  and  glossary  entries. To distinguish between them, the links have different colors.
  1. Chaturmas
  2. Jain Terapnth News
  3. Pali
  4. Sadhvi
  5. Sadhvi Bhikha
  6. Sadhvi Punyaprabha
  7. Sushil Bafana
  8. ज्ञान
  9. दर्शन
  10. मुक्ति
Page statistics
This page has been viewed 1213 times.
© 1997-2020 HereNow4U, Version 4
Home
About
Contact us
Disclaimer
Social Networking

HN4U Deutsche Version
Today's Counter: