07.10.2017 ►Acharya Shri Gyan Sagar Ji Maharaj Ke Bhakt ►News

Posted: 07.10.2017
Updated on: 08.10.2017

News in Hindi

Sanjay
केबीसी के सार्वजनिक मंच पर 50 लाख की राशी जीतने वाली मुम्बई की मीनाक्षी जैन द्वारा पिता से चिता को मुखाग्नि देने का अधिकार माँगना क्या जैन आगमानुसार उचित है?...
क्या जैन आगम पुत्री को शमशान जाकर अपने पिता की चिता को मुखाग्नि देने हेतु अनुमति देता है?
यह विषय एक जैन समाज की बेटी द्वारा सार्वजानिक मंच से उठाया गया है! जो उनके निजी जीवन के साथ ही नहीं अपितु जैन आगम व समाज से भी जुडा है और यह ही सवाल अन्य पिताओं की पुत्रियों से भी जुडा है क्युकी यदि आगम सम्मत है तो उन पुत्रियों को भी मुखाग्नि देने का अधिकार मिलना चाहिए जिनके कोई भाई नहीं या उनका भाई पिता के अंतिम समय में किसी कारणबस उपस्तिथ न हो सका!
www.amarujala.com/photo-gallery/entertainment/television/kbc-9-contestant-meenakshi-jain-win-50-lac-rupees
इस विषय में सभी बन्धु अपने क्षेत्र में विराजमान परम पूज्य जैन आचार्य / उपा. / मुनि / आर्यिका जी से इस विषय में मार्गदर्शन लेकर यहाँ पोस्ट करे तो ज्यादा उचित होगा जिससे समाज को भी जानकारी प्राप्त हो सकेगी!
कृपया इस पोल की केवल आलोचना करने हेतु ही कमेंट न करे अपना मार्गदर्शन या जानकारी देने की कृपा करें! जय जिनेन्द्र.....

Share this page on: