14.09.2017 ►Acharya Shri VidyaSagar Ji Maharaj ke bhakt ►News

Posted: 14.09.2017
Updated on: 16.09.2017

Update

Big News #share राष्ट्रपति महोदय श्री रामनाथ कोविंद जी 23 को रामटेक आएंगे आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज जी के दर्शन करने! आधिकारिक घोषणा हुई:)) #RamnathKovind #AcharyaVidyasagar #Jainism

🎧 e-Storehouse • www.jinvaani.org
📚 Have Rational Insight/Knowledge...

Update

प्रभु देव तुम्हारे पवित्र मुख से, निःसृत जो शीतलवाणी!
जन-मन के मल को धोती, अतः कहाती जिनवाणी|
जयवंतों में जग में तब तक, जब तक सूरज-चाँद रहे!
शीश नवाते कर्म हरो माँ, अब तक हम विषयांध रहे!!

🎧 e-Storehouse • www.jinvaani.org 📚 Have Rational Insight/Knowledge..

News in Hindi

शाम को एक दिन वैय्यावृत्ति कर रहे थे कि चर्चा के दौरान #आचार्यविद्यासागर जी ने कहा-आज दो अजैन बच्चियाँ हमारे पास आई और कहने लगी.. 😳🙂 #AcharyaVidyasagar

आचार्य श्री जी ये लोग हम लोगो को नीचे से आपके दर्शन करने नहीं आने देते और दो पत्र पैरों के पास रख दिये।उनकी अच्छी भावना लगी पत्र को मैनें पढ़ा ऐसा लगा कोई जैन कवि कि भाषा हो पर वे तो रघुवंशी समाज की थी।उन्होंनें अंत में पद्य में दो पंक्ति लिखी, सुना है आप पत्र नहीं पढ़ेंगे पर मेरी भावना है आप संत ही नहीं कृपानिधान भी ह है अतः मुझे विश्वास है कि आप मेरी प्रार्थना पर अवश्य ध्यान देंगे और मुझे आशिर्वाद देंगे।देखो लोगो कि कितनी पवित्र भावनाएँ होती है ये जैन लोग, कार्यकर्ता समझते नहीं है इन्हें थोड़ा विवेक से कार करना चाहिए

वे पंक्तियाँ✨-(जो उन बहनों ने आचार्य श्री जी के लिए लिखी थी)

एक पथिक चल रहा निरंतर
रखकर अपना वेश दिगम्बर, एक पथिक..

*न चाह उसको छाँह की
*वो खुश है सबको छाँव देकर
*न कामना है विश्राम की
*वो चल रहा विश्राम देकर, एक पथिक..

*ग्रीष्म की विभिषिका भी
*नत है उसके सामने
*झुक रहा है सूर्य भी
*रोज उसको देखकर*।एक पथिक...

*मोह बंधन से दूर है
*वो ज्ञान का भंडार है
*कुबेर भी है भीख माँगे
*कोष उसका देखकर। एक पथिक

🎧 e-Storehouse • www.jinvaani.org 📚 Have Rational Insight/Knowledge..

Share this page on: