19.03.2017 ►Jeevan Vigyan Academy ►Mangal Spirit Festival

Posted: 19.03.2017

http://www.herenow4u.net/fileadmin/v3media/pics/organisations/Jeevan_Vigyan_Academy/Jeevan_Vigyan_Logo__New_.jpg

Jeevan Vigyan Academy


News in Hindi

March 19, 2017 Delhi, Model Town, Muni Kishanlal

 

‘‘शासनश्री’’ मुनिश्री किशनलालजी का मंगल भावना समारोह
लगभग तीन वर्षीय दिल्ली प्रवास सम्पन्न कर हांसी की ओर करेंगे विहार
19 मार्च, 2017 मॉडल टाउन।
प्रेक्षाप्राध्यापक ‘‘शासनश्री’’ मुनिश्री किशनलालजी का मॉडल टाउन स्थित अग्रवाल धर्मशाला
में मंगल भावना समारोह का आयोजन हुआ। इस दौरान मॉडल टाउन व आस-पास के अनेक
क्षेत्रों से श्रावक-श्राविकाएं उपस्थित हुए।
मुनिश्री किशनलालजी ने अपने मंगल भावना समारोह में कहा कि हम भाग्यशाली हैं कि हमें
जैन धर्म का साया मिला। हम सभी मंगल भावना से उत्प्रेरित हों। हमारी ही नहीं सभी प्राणियों
के प्रति भी मंगल भावना होनी चाहिए। मनुष्य का जीवन अच्छा होना चाहिए। मनुष्य अपने
आचार-विचार को अच्छा रखे। धनार्जन के साथ व्यक्ति का जीवन भी अच्छा होना चाहिए।
उन्होंने तेरापंथ महिला मण्डल द्वारा चलाये जा रहे स्वच्छ भारत मिशन की प्रशंसा करते हुए
कहा कि स्वच्छ भारत के साथ वे अपना जीवन भी स्वच्छ बनाएं तो और अधिक सार्थकता हो
सकती है।
उन्होंने आगे कहा कि हमारा दिल्ली का तीन वर्षीय प्रवास सुखद रहा। यहां के लोगों की
भक्ति, सेवा भावनाएं अच्छी है। हमारा 2014 का चातुर्मास आचार्य प्रवर के साथ रहा, फिर
2015 का अध्यात्म साधना केन्द्र और उसके बाद 2016 का मॉडल टाउन में चतुर्मास सफल,
सुखद रहा।
इस अवसर पर मुनि सोम्य कुमार, मुनि निकुंज कुमार, समण सिद्धप्रज्ञ, साधक अश्विनीप्रज्ञ,
जैन श्वेताम्बर तेरापंथी सभा दिल्ली के अध्यक्ष श्री गोविन्दराम बाफना, दिल्ली उतर मध्य के
अध्यक्ष श्री विनोद भंसाली, मंत्री श्री दीपक जैन, अणुव्र न्यास से श्री शांति कुमार जैन, श्री
विजय चौपड़ा, श्रीमती नीतु पटावरी, श्री भरत बैंगानी, रोहतक के श्री कृष
कुमार जैन, संजू जैन आदि ने अपनी मंगल भावना व्यक्त की। कार्यक्रम में लोगों की
उपस्थिति उल्लेखनीय रही।
श्री उम्मेद दुगड़,
प्रेषक: अशोक सियोल

9891752908

Photos:

33491110266

2017.03.19 Jeevan Vigyan Academy News 01

33491090636

2017.03.19 Jeevan Vigyan Academy News 02

33491090146

2017.03.19 Jeevan Vigyan Academy News 03

Share this page on:

Source/Info

jeevan vigyan