17.07.2016 ►Delhi ►Chaturmas Pravesh

Posted: 18.07.2016

GreenPark, New De

Chaturmas pravesh program of 'Shasan shri' Muni Shri Sumermal ji (Sudarshan) & 7 more Monks: Muni Tanmay Kumar ji, Muni Neeraj Kumar Ji, Muni Jayant Kumar Ji, Muni Anushasan Kumar Ji, Muni Meru Kumar Ji & Muni Saumya Kumar Ji.


ग्रीनपार्क, दिल्ली:-
17 जुलाई 2016
"चातुर्मासिक मंगल प्रवेश"
"भिक्षु बोधि दिवस"

तेरापंथ धर्म संघ के वरिष्ठ संत "शासन श्री" मुनि श्री सुमेरमल जी 'सुदर्शन' आदि ठाणा-7 का गोयल श्रद्धा निवास में चातुर्मासिक मंगल प्रवेश हुआ। स्वागत समारोह में मुनि श्री तन्मय कुमार जी ने गीतिका के माध्यम से चातुर्मास को सफल बनाने की प्रेरणा दी। मुनि श्री जयंत कुमार जी ने 'How to change' पर उद्बोधन देते हुए समता, करुणा, अहिंसा का चातुर्मास को विकास  काल बताया। युवती मंडल ने कार्यक्रम का शुभारंभ किया। ज्ञानशाला के बच्चों ने भिक्षु बोधि दिवस के उपलक्ष्य में भिक्षु अष्टकम का संगान किया। स्वागत के क्रम में महासभा उपाध्यक्ष डालमचंद जी बैद, दिल्ली सभाध्यक्ष गोविन्द जी बाफना, अणुव्रत न्यास से संपत जी नाहटा, तेयुप अध्यक्ष कमल जी गांधी, साउथ दिल्ली उपाध्यक्ष संजय जी चोरडिया, महिला मंडल मंत्री रीटा चोरडिया, अणुव्रत समिति से ललिता जी मुकीम, रमेश जी गोयल, श्रीचंद जी गेलड़ा, अणुव्रत शिक्षक संसद से संजय भाई आदि ने अपने भाव व्यक्त किये। पूर्व उपाध्यक्ष एवं मीडिया प्रभारी हीरालाल जी गेलड़ा ने सुमधुर गीत का संगान किया। दिल्ली सभा के महामंत्री सुखराज जी सेठिया ने मंच संचालन किया एवं दक्षिण दिल्ली सभा मंत्री मनोज जी खटेड़ ने आभार ज्ञापन किया। कार्यक्रम में श्रावक-श्राविकाओं की उल्लेखनीय उपस्थिति रही।
फोटो- सागर मिश्रा
रिपोर्ट- हीरालाल गेलडा
(मीडिया प्रभारी, दक्षिण दिल्ली)
09811092652

Photos:

28390980665

2016.07.17 Delhi Chaturmas Pravesh 01

28286667122

2016.07.17 Delhi Chaturmas Pravesh 02

28390980515

2016.07.17 Delhi Chaturmas Pravesh 03

28312179601

2016.07.17 Delhi Chaturmas Pravesh 04

28312179671

2016.07.17 Delhi Chaturmas Pravesh 05

28312179441

2016.07.17 Delhi Chaturmas Pravesh 06

28286666962

2016.07.17 Delhi Chaturmas Pravesh 07

28312179361

2016.07.17 Delhi Chaturmas Pravesh 08

28390980355

2016.07.17 Delhi Chaturmas Pravesh 09

Share this page on: