Chobisi ►01 ►Stavan for Bhagwan Rishabhnatha

Published: 16.03.2016

Chobisi is a set of 24 devotional songs dedicated to the 24 Jain Tirthankaras.


Composed by:

Dedicated to:

Acharya Shree Jeetmalji

Acharya Jeetmal
 

Language: Rajasthani:

1 ~ तीर्थंकर ऋषभ प्रभु

प्रणमूं प्रथम जिनन्द नैं जय जय चंदा।।

वन्दू बेकर जोड़ नैं,जुग आदि जिनिन्दा।
कर्म-रिपु -गज ऊपरै,मृगराज मुनिन्दा।।१।।

अनुकुल प्रतीकूल सम सही,तप विविध तपंदा ।
चेतन तन भिन लेखवी,ध्यान शुकल ध्यावंदा।।२।।

पुदगल -सुख अरी पेखिया,दुख- हेतु भयाला।
विरक्त चित विघट्यो इसो, जाण्या प्रत्यक्ष जाला।।३।।

संवेग -सरवर झूलता,उपशम-रस लीना ।
निंदा -स्तुति सुख-दुःख में,समभाव सुचीना ॥४॥

वासी चंदन समपणे,थिर-चित्त जिन ध्याया।
इम तन-सार तजि करी,प्रभु केवल पाया।।५।।

हूं बलिहारी तांहरी वाह! वाह!! जिनराय।
उवा दिशा किण दिन आवसी,मुझ मन ऊम्हाया।।६।।

उगाणीसै सुदि भाद्रवै,दशमी दीतवांर।
ऋषभदेव रटवै करी,हुओ हरष अपांर ॥७।।

 

Lord Rishabhadev

Bhagwan Rishabhnatha

Bull

Symbol - Bull

       

01

Stavan for Bhagwan Rishabhnatha

Acharya Tulsi

6:27
http://www.herenow4u.net/fileadmin/v3media/pics/persons/Babita_Gunecha/Babita_Gunecha_560.jpg Babita Gunecha 5:05

Language: Hindi
Author: Acharya Tulsi

अर्थ ~~१ तीर्थंकर ऋषभ प्रभु

मै प्रथम अर्हत् को प्रणाम करता हूँ ।हे जिन चन्द्र! तुम्हारी जय विजय हो।

में इस युग के आदि अर्हत् ऋषभ देव को बद्धानंजलि होकर वन्दना करता हूँ।हे मुनीन्द्र! कर्मशत्रु रूप हाथी को आहत करने के लिए तुम सिंह के समान हो।

तुमने अनुकूल प्रतिकूल परिस्थितियों को समभाव से सहन कर विविद प्रकार का तप तप। भेद विज्ञान के द्वारा आत्मा और शरीर को भिन्न समझकर तुम शुक्ल ध्यान में लीन हो गए।

तुमने देखा- यह पोद्गलिक सुख अहितकर,दुः खहेतु और भय पैदा करने वाला है।उसे प्रत्यक्ष पाश के रूप में समझकर तुम्हारा विरक्त चित्त उससे विलग हो गया।

तुम संवेग रूप सरोवर के शांतरस रूप जल में तल्लीन होकर डुबकियां लगाते रहे ।निंदा -स्तुति और सुख - दःख-इन द्वन्दों में सम रहना ही साधना का पथ है।इस तथ्य को तुमने भली भांति समझ लिया।

तुम बसौले से काटते और चन्दन से चर्चित करने पर सम चित रहे ।तुमने स्थिर -चित्त होकर ध्यान किया। इस प्रकार देहाध्यास को छोड़ तुम केवली बन गए।

६,७ - हे जिनेश्वर! में तुम्हारे लिए उपहृत हूँ।उस स्थिति को मै किस दिन प्राप्त कर सकूँगा मेरा मन उतावला हो रहा है।अर्हत् ऋषभ! तुम्हारी स्तुति करने से मुझे अपार हर्ष हुआ।

रचनाकाल -वि.सं.१९००,भाद्रवै शुक्ला दशमी,रविवार।।

English Translation:

1st Tirthankara Bhagwan Rishabh Prabhu

I bow to the 1st Tirthankara Bhagwan Rishabh in the Vandana manner.

O Lord! I always wish your viva your mastery!
 
O Lord! Like a lion you conquered the elephants of enemy like Karma.
 
You have tolerated each and every favourable and unfavourable situation in consentience manner by various kinds of penances and engrossed yourself in Shukla Dhyan (Meditation)
 
You see this materialistic pleasure totally detrimental, reason of anguish and terror.

Your disenchanted soul found this as a snare and purposely isolates itself from this.
 
You engrossed yourself by dipping in the calm water as if it were a pond of impulses. You have learnt this fact very well that the path of industriousness is just living instinct in libel or praise.
 
You stay instinct either stung by adder or sandalwood liniment. You did meditation with stable mind and body, thus you abdicate the reincarnation and attained Kevalgayana.
 
O Lord! I am grateful to you and eager to get the same. Arhat Rishabh I am shoreless cheerful by glorifying you.

 
Time of Composing - V.S. 1900, 10th day of Shukla Bhadrava, Sunday.

Sources
Project: Sushil Bafana
Text contributions:
Rajasthani & Hindi: Neeti Golchha
English: Kavita Bhansali
Share this page on:
Page glossary
Some texts contain  footnotes  and  glossary  entries. To distinguish between them, the links have different colors.
  1. Acharya
  2. Acharya Jeetmal
  3. Acharya Tulsi
  4. Arhat
  5. Babita Gunecha
  6. Body
  7. Chobisi
  8. Dhyan
  9. Karma
  10. Kavita Bhansali
  11. Meditation
  12. Neeti Golchha
  13. Prabhu
  14. Rajasthani
  15. Rishabh
  16. Rishabhnatha
  17. Shukla
  18. Soul
  19. Stavan
  20. Sushil Kumar Bafana
  21. Tirthankara
  22. Tirthankaras
  23. Tulsi
  24. Vandana
  25. तीर्थंकर
Page statistics
This page has been viewed 1634 times.
© 1997-2021 HereNow4U, Version 4.07
Home
About
Contact us
Disclaimer
Social Networking

HN4U Deutsche Version
Today's Counter: